मंगल ग्रह

नासा ने मंगल ग्रह पर प्राचीन काल में पानी की उपस्थिति की खोज की

मार्स रेकांसेंस ऑर्बिटर (Mars Reconnaissance Orbiter) ने खोज की है कि मंगल पर दो अरब साल पहले पानी था। लेकिन आज ग्रह का सारा पानी वाष्पित हो चुका है। इसकी पुष्टि MRO ने ग्रह की सतह पर जमा नमक की मदद से की। मुख्य बिंदु  MRO ने पाया कि कुछ समय तक मंगल ग्रह पर

Month:

चीन 2033 में मंगल ग्रह के लिए पहला मानवयुक्त मिशन को लांच करेगा

चीन ने वर्ष 2033 में अपना पहला क्रू मिशन मंगल पर भेजने की योजना बनाई है। मुख्य बिंदु नियमित अनुवर्ती उड़ानों (follow-up flights) के साथ मानवयुक्त मंगल मिशन शुरू किया जाएगा। मंगल पर स्थायी रूप से बेस के निर्माण और इसके संसाधनों को निकालने के लिए दीर्घकालिक योजना के साथ मिशन शुरू किया जाएगा। यह

Month:

मंगल ग्रह का यूटोपिया प्लैनिटिया (Utopia Planitia) क्या है?

हाल ही में मंगल ग्रह के लिए चीनी मिशन तियान्वेन (Tianwen 1) ने यूटोपिया प्लैनिटिया (Utopia Planitia) में लैंडिंग की। यह वही जगह है जहां वाइकिंग 2 (Viking 2) लैंडर ने टच-डाउन किया था। यूटोपिया प्लैनिटिया (Utopia Planitia) यह मंगल ग्रह का इम्पैक्ट बेसिन है।इम्पैक्ट क्रेटर का निर्माण छोटे पिंडों के हाइपरवेलोसिटी (hypervelocity) प्रभाव के कारण

Month:

इन्जेन्यूटी (Ingenuity) : मार्स हेलीकॉप्टर मिशन का कार्यकाल बढ़ाएगा नासा

नेशनल एरोनॉटिक्स एंड स्पेस एडमिनिस्ट्रेशन (NASA) ने हाल ही में मार्स हेलीकॉप्टर मिशन का कार्यकाल बढ़ाने कि घोषणा की। मंगल ग्रह पर भेजे गये नासा के हेलिकॉप्टर का नाम इन्जेन्यूटी (Ingenuity) है। इस हेलिकॉप्टर ने अपनी पहली तीन उड़ानों को सही तरीके से क्रियान्वित किया। इसके बाद इस हेलिकॉप्टर मिशन के कार्यकाल को बढ़ाने का

Month:

झुरोंग (Zhurong) : चीन का पहला मंगल रोवर

चीन ने अपने पहले मंगल रोवर को पारंपरिक अग्नि देवता के नाम पर झुरोंग (Zhurong) रखा गया है। झुरोंग (Zhurong) झुरोंग तियानवेन-1 (Tianwen-1) स्पेस प्रोब पर है। यह फरवरी, 2021 में मंगल की कक्षा में पहुंचा और मई, 2021 में मंगल ग्रह पर लैंडिंग करेगा। झुरोंग के साथ, मंगल पर सॉफ्ट लैंडिंग हासिल करने के

Month:

मंगल ग्रह पर पृथ्वी के कुछ सूक्ष्मजीव जीवित रह सकते हैं : अध्ययन

हाल ही में ‘फ्रंटियर्स इन माइक्रोबायोलॉजी’ जर्नल में एक अध्ययन प्रकाशित हुआ है, इस अध्ययन के अनुसार पृथ्वी पर पाए जाने वाले कुछ सूक्ष्मजीवों को मंगल पर अस्थायी रूप से जीवित रखा जा सकता है। मुख्य बिंदु यह अध्ययन भविष्य के मंगल मिशन की सफलता के लिए महत्वपूर्ण है। इन सूक्ष्मजीवों का परीक्षण नासा और

Month:

Advertisement