मेघालय

मेघालय में वांगला महोत्सव (Wangala Festival) मनाया गया

वांगला महोत्सव का 46वां संस्करण इस साल 10 नवंबर को शुरू हुआ। वांगला महोत्सव क्या है? वांगला महोत्सव मेघालय में गारो समुदाय (Garo community) का एक लोकप्रिय त्योहार है। इसे 100 ड्रम फेस्टिवल (100 drums festival) के रूप में भी जाना जाता है। यह एक फसल उत्सव है जो गारो जनजाति के मुख्य देवता, सालजोंग (Saljong)

Month:

असम और मेघालय ने सीमा समझौते पर हस्ताक्षर किये

29 मार्च, 2022 को असम और मेघालय के बीच एक सीमा समझौते पर हस्ताक्षर किए गए थे । इस नए हस्ताक्षरित समझौता ज्ञापन (MoU) के साथ, मेघालय को 18.33 वर्ग किलोमीटर और असम को कुल 36.79 वर्ग किलोमीटर में से 18.46 वर्ग किलोमीटर का लाभ होगा। दोनों राज्यों के बीच मतभेदों के 12 में से

Month:

मेघालय ने CBI की सहमति वापस ली

मेघालय राज्य में मामलों की जांच के लिए CBI से सहमति वापस लेने वाला देश का नौवां राज्य बन गया है। सामान्य सहमति  दिल्ली विशेष पुलिस स्थापना (DSPE) अधिनियम, 1946 CBI को नियंत्रित करता है और किसी राज्य में किसी अपराध की जांच शुरू करने से पहले संबंधित राज्य सरकार की सहमति प्राप्त करना अनिवार्य

Month:

21 जनवरी : त्रिपुरा, मणिपुर और मेघालय का राज्यत्व दिवस

21 जनवरी को त्रिपुरा, मणिपुर और मेघालय का 47वां राज्यत्व दिवस मनाया जा रहा है। त्रिपुरा, मणिपुर और मेघालय को 21 जनवरी, 1972 को पूर्ण राज्य का दर्जा मिला था। उत्तर पूर्वी राज्यों का पुनर्गठन स्वतंत्रता के समय भारत के उत्तर-पूर्वी क्षेत्र को निम्नलिखित तीन भागों में विभाजित किया गया था : ब्रिटिश भारत का

Month:

मेघालय युवा नीति 2021 (Meghalaya Youth Policy 2021) को मंज़ूरी दी गयी

मेघालय की कैबिनेट ने मेघालय युवा नीति 2021 को मंजूरी दे दी है। इस नीति का उद्देश्य राज्य के युवाओं के लिए अपनी पूरी क्षमता हासिल करने और राज्य के कुशल, जिम्मेदार, रचनात्मक और अधिकार प्राप्त सदस्य बनने के लिए एक क्षेत्र बनाना है। मुख्य बिंदु वर्तमान में, मेघालय में राज्य के युवाओं के लिए

Month:

उत्तर-पूर्व में फैला अफ्रीकन स्वाइन फीवर (African Swine Fever), जानिये क्या है अफ्रीकन स्वाइन फीवर?

अफ्रीकन स्वाइन फीवर ने मेघालय को जकड़ लिया है। इससे पहले इसने मिजोरम को भी प्रभावित किया था। वर्तमान परिदृश्य अफ्रीकन स्वाइन फीवर के कारण मिजोरम में एक महीने में 1,700 सुअर मारे गये हैं। यह अब मेघालय तक फैल गया है और अब तक यहां 300 सुअर मारे जा चुके हैं। फिलीपींस में अफ्रीकन स्वाइन फीवर

Month:

Advertisement