स्पुतनिक वी

Sputnik Light Single Dose क्या है?

रूस द्वारा विकसित स्पुतनिक वी (Sputnik V) टीका दो खुराक  वाला टीका है। इस वैक्सीन की अनूठी विशेषता यह है कि पहली और दूसरी खुराक एक दूसरे से भिन्न होती है। स्पुतनिक लाइट (Sputnik Light ) में एक खुराक ही पर्याप्त है। स्पुतनिक वी (Sputnik V) स्पुतनिक वी को Gam-COVID-Vac के रूप में भी जाना

Month:

WHO ने इमरजेंसी इस्तेमाल के लिए मॉडर्ना COVID-19 वैक्सीन को मंजूरी दी

हाल ही में विश्व स्वास्थ्य संगठन (World Health Organisation) ने मॉडर्ना के COVID-19 वैक्सीन के आपातकालीन उपयोग के लिए मंज़ूरी दे दी है। Moderna अमेरिका की मॉडर्ना बायोटेक फर्म  ने मैसेंजर RNA या mRNA का उपयोग करके COVID-19 वैक्सीन विकसित किया गया है। आपातकालीन उपयोग प्राधिकरण (Emergency Use Authorisation) वर्तमान में, भारत बायोटेक के COVAXIN,

Month:

रूसी कोविड-19 वैक्सीन Sputnik V का पहला बैच भारत में पहुंचा

हाल ही में रूस द्वारा निर्मित स्पुतनिक-वी (Sputnik-V) वैक्सीन की पहली खेप भारत में पहुँच गयी है। पहले बैच में  1,50,000 वैक्सीन प्राप्त हुए हैं। गौरतलब है कि स्पुतनिक-वी (Sputnik-V) तीसरा टीका है जिसका उपयोग भारत में कोरोनवायरस के खिलाफ किया जाएगा। हाल ही में भारत के ड्रग कंट्रोलर जनरल (Drug Controller General of India) ने

Month:

DGCI ने भारत में स्पुतनिक वी (Sputnik V) वैक्सीन को मंजूरी दी

DGCI (Drugs Controller General of India) ने भारत में स्पुतनिक वी (Sputnik V) वैक्सीन को सीमित उपयोग के लिए मंजूरी दे दी है।  इससे पहले Central Drugs Standard Control Organisation (CDSCO) के एक विशेषज्ञ पैनल ने COVID-19 वैक्सीन स्पुतनिक-वी (Sputnik-V) के आपातकालीन उपयोग को मंजूरी दी थी। इस मंज़ूरी के मिलने पर स्पुतनिक भारत में

Month:

Pfizer ने भारत में इमरजेंसी यूज़ अथॉराईजेशन की मांग की

हाल ही में Pfizer ने भारत में ड्रग्स कंट्रोलर जनरल ऑफ़ इंडिया (DGCI) से इमरजेंसी यूज़ अथॉराईजेशन की मांग की है। गौरतलब है कि हाल ही में यूके ने Pfizer Inc द्वारा विकसित कोविड-19 वैक्सीन को इमरजेंसी यूज़ अथॉराईजेशन के लिए मंज़ूरी दी थी। फाइजर अमेरिकी सरकार ने 2 बिलियन डॉलर में100 मिलियन खुराक खरीदने

Month:

यूनाइटेड किंगडम ने फाइज़र कोविड-19 वैक्सीन को मंज़ूरी दी

यूके Pfizer Inc द्वारा विकसित कोविड-19 वैक्सीन को मंजूरी देने वाला पहला देश बन गया, इस वैक्सीन का निर्माण BioNTT SE नामक जर्मन कंपनी के साथ मिलकर किया गया है। ब्रिटिश सरकार के एक बयान के अनुसार, यह टीका अगले सप्ताह से ब्रिटेन में उपलब्ध होगा। इसके कोरोनवायरस को रोकने के वैश्विक प्रयास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने

Month:

Advertisement