Ayushman Bharat

पीएम मोदी ने जम्मू और कश्मीर में ‘सेहत’ योजना लांच की

आज 26 दिसंबर, 2020 को प्रधानमंत्री मोदी ने  जम्मू और कश्मीर में सेहत योजना (SEHAT Scheme) लांच करेंगे। SEHAT का पूर्ण “Social Endeavour for Health and Telemedicine” है।

मुख्य बिदु

SEHAT योजना लांच करने के बाद जम्मू-कश्मीर सार्वभौमिक स्वास्थ्य कवरेज हासिल करे वाला देश का पहला केंद्र शासित प्रदेश बन जायेगा। गौरतलब है कि वर्तमान में आयुष्मान भारत पीएम जन आरोग्य योजना-PMJAY के तहत जम्मू-कश्मीर में 30 लाख लोग कवर किये गये हैं। 26 दिसंबर को SEHAT योजना के लांचके साथ, गोल्डन कार्ड का वितरण भी शुरू किया जाएगा।

सेहत योजना

SEHAT नामक पहल को भारत सरकार ने वर्ष 2015 में अपोलो अस्पताल के साथ मिलकर लांच किया था। इस पहल का मकसद देश के ग्रामीण क्षेत्रों में टेलीमेडिसिन केन्द्रों की स्थापना करना है, ताकि ग्रामीण क्षेत्रों के लोग ऑनलाइन ही डॉक्टरों से परामर्श ले सकें।

पीएम जन आरोग्य योजना (PMJAY)

पीएम जन आरोग्य योजना आयुष्मान भारत के दो घटकों में से एक है। इसे 2018 में झारखण्ड के रांची में लॉन्च किया गया था। इस योजना का उद्देश्य प्रति परिवार 5 लाख रुपये का वार्षिक स्वास्थ्य कवर प्रदान करना है। इससे लगभग 50 करोड़ कमजोर और गरीब परिवारों को लाभ मिलेगा।

Month:

आयुष्मान भारत प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना ने 1.5 करोड़ उपचारों का आंकड़ा पार किया

हाल ही में आयुष्मान भारत प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना ने 1.5 करोड़ उपचारों का आंकड़ा पार कर लिया है। इस योजना के द्वारा देश के कमज़ोर वर्गों को स्वास्थ्य सुरक्षा का लाभ मिला है।

प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना (आयुष्मान भारत)

भारत सरकार ने सार्वजनिक स्वास्थ्य सुरक्षा प्रदान करने के लिए आयुष्मान भारत योजना शुरू की है। प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना एक सरकारी स्वास्थ्य योजना है, इसके तहत एक परिवार को प्रतिवर्ष 5 लाख रुपये का स्वास्थ्य बीमा कवर प्रदान किया जायेगा। इसका लाभ किसी सरकारी व कुछ एक निजी अस्पतालों में लिया जा सकता है।

इस योजना के लिए 60% योगदान केंद्र द्वारा दिया जायेगा, जबकि शेष राशी राज्यों द्वारा दी जाएगी। इस योजना के सुचारू रूप से क्रियान्वयन के लिए नीति आयोग भी साथ में कार्य करेगा।

इस योजना का लाभ लेने के लिए परिवार के सदस्यों की संख्या व आयु पर कोई सीमा नहीं है।  इसके तहत अस्पताल में भर्ती होने से पहले व बाद के खर्च को भी शामिल किया जायेगा। इस योजना में हॉस्पिटलाईजेशन के दो दिन पहले की दवा, डायग्नोसिस और बेड चार्जेज शामिल हैं। इसके अलावा हॉस्पिटलाईजेशन की अवधि तथा उसके बाद के 15 दिन के खर्च को इसमें कवर किया जायेगा। हॉस्पिटलाईजेशन के लिए रोगी को परिवहन व्यय भी दिया जायेगा।

 

Month:

Advertisement