IPCC

उष्णकटिबंधीय हिंद महासागर तेजी से गर्म हो रहा है : केंद्र सरकार

पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय के MoS जितेंद्र सिंह ने राज्यसभा को बताया है कि उष्णकटिबंधीय हिंद महासागर तेजी से गर्म हो रहा है। यह देखा गया है कि 1951 से 2015 की अवधि में समुद्र की सतह के तापमान में लगभग 1 डिग्री सेल्सियस की औसत वृद्धि हुई थी, जो प्रति दशक 0.15 डिग्री सेल्सियस के

Month:

जलवायु परिवर्तन पर संयुक्त राष्ट्र ने रिपोर्ट जारी की

संयुक्त राष्ट्र के जलवायु विज्ञान पैनल ने एक प्रमुख रिपोर्ट में चेतावनी दी है कि जलवायु परिवर्तन काफी तेज़ी से हो रहा है और मानवता इसके लिए तैयार नहीं है। इस रिपोर्ट में कहा गया है कि दुनिया की आधी से अधिक आबादी पहले से ही खतरनाक जलवायु प्रभावों के संपर्क में है। मुख्य बिंदु 

Month:

समुद्र का जलस्तर बढ़ना निश्चित है : IPCC रिपोर्ट

Intergovernmental Panel on Climate Change (IPCC) ने हाल ही में वर्किंग ग्रुप I की असेसमेंट रिपोर्ट “Climate Change 2021: The Physical Science Basis” शीर्षक से प्रकाशित की।  मुख्य बिंदु IPCC रिपोर्ट विज्ञान और जलवायु परिवर्तन के प्रभावों पर सबसे व्यापक वैज्ञानिक समीक्षाओं में से एक प्रदान करती है। इसने ग्रीनहाउस गैस (GHG) उत्सर्जन के विभिन्न

Month:

हिंद महासागर का तेजी से गर्म हो रहा है : IPCC रिपोर्ट

Intergovernmental Panel on Climate Change (IPCC) ने हाल ही में “Climate Change 2021: The Physical Science Basis” शीर्षक से अपनी छठी मूल्यांकन रिपोर्ट  प्रकाशित की। IPCC ने अपनी रिपोर्ट में पुष्टि की है कि हिंद महासागर अन्य महासागरों की तुलना में तेज़ी से गर्म हो रहा है। मुख्य बिंदु  AR6 रिपोर्ट के लेखकों के अनुसार,

Month:

अंटार्कटिका 2060 तक जलवायु परिवर्तन बिंदु (Climate Tipping Point) की ओर बढ़ रहा है : अध्ययन

एक नए अध्ययन में कहा गया है कि अंटार्कटिका की बर्फ की चादरें 2060 तक जलवायु परिवर्तन बिंदु (Climate Tipping Points) की ओर बढ़ रही हैं। अंटार्कटिका में जलवायु बदलाव अंटार्कटिका में कई बर्फ विशाल खंड हैं। जैसे ही ये बर्फ खंड  टूटते  हैं, बर्फ की ऊंची चट्टानें अपने आप खड़ी नहीं हो सकती हैं। इस

Month:

Climate Action Tracker : ग्लोबल वार्मिंग 2100 तक 2.4 डिग्री सेल्सियस पर पहुँच जाएगी

Climate Action Tracker ने हाल ही में यूएस क्लाइमेट समिट के प्रभावों की गणना करते हुए एक रिपोर्ट जारी की। इस रिपोर्ट के मुताबिक, शिखर सम्मेलन के महत्वाकांक्षी जलवायु लक्ष्यों को लागू करने के बाद भी, पूर्व-औद्योगिक स्तरों की तुलना में वैश्विक तापमान में 2100 तक 2.4 डिग्री सेल्सियस की वृद्धि होगी। मुख्य बिंदु इस रिपोर्ट में 36

Month:

Advertisement