Naveen Patnaik

ओडिशा ने गोपबंधु सम्बदिका स्वास्थ्य बीमा योजना (Gopabandhu Sambadika Swasthya Bima Yojana) लांच की

ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक (Naveen Patnaik) ने हाल ही में ओडिशा राज्य के कार्यरत पत्रकारों को अग्रिम पंक्ति के COVID-19 योद्धा घोषित किया है। यह घोषणा गोपबंधु सम्बदिका स्वास्थ्य बीमा योजना के तहत की गई थी। इनके साथ राज्य में 6,500 से अधिक पत्रकारों को लाभ मिलेगा।

गोपबंधु सम्बदिका स्वास्थ्य बीमा योजना (Gopandhu Sambadika Swasthya Bima Yojana)

  • यह एक स्वास्थ्य बीमा योजना है जो ओडिशा सरकार द्वारा पत्रकारों के लिए शुरू की गई थी।यह योजना राज्य के सभी कार्यरत पत्रकारों को 2 लाख रुपये का स्वास्थ्य बीमा कवर प्रदान करती है।
  • इसे 2018 में लॉन्च किया गया था।
  • इस योजना में सरकारी और निजी अस्पतालों में कैशलेस उपचार शामिल है।
  • यह पत्रकारों को उनके कर्तव्यों का पालन करते हुए बीमारी और चोटों को भी कवर करती है।

गोपालबंधु दास (Gopalbandhu Das)

  • इस योजना का नाम गोपालबंधु दास के नाम पर रखा गया है।वे ओडिशा में एक लोकप्रिय सुधारक, सामाजिक कार्यकर्ता, पत्रकार, राजनीतिक कार्यकर्ता, निबंधकार और कवि थे।
  • उन्होंने “सत्यवादी” नामक एक पत्रिका शुरू की थी।पत्रकारिता में उनका योगदान उल्लेखनीय था।

अन्य राज्य

कई अन्य राज्यों ने भी पत्रकारों को अग्रिम पंक्ति का कार्यकर्ता घोषित किया है। इसमें मध्य प्रदेश, बिहार, पंजाब, पश्चिम बंगाल, तमिलनाडु, उत्तराखंड, उत्तर प्रदेश शामिल हैं।

महत्व

पत्रकारों को फ्रंटलाइन कार्यकर्ता घोषित करने का महत्व यह है कि उन्हें भारत के COVID-19 टीकाकरण कार्यक्रम के चरण I में टीका लगाया जाएगा। COVID-19 टीकाकरण कार्यक्रम के चरण I के लाभार्थी स्वास्थ्य देखभाल कार्यकर्ता, फ्रंटलाइन वर्कर और 50 वर्ष से अधिक आयु की लोग हैं। वर्तमान फ्रंटलाइन वर्कर में  होमगार्ड, सशस्त्र बल, जेल कर्मचारी, नगरपालिका कार्यकर्ता, नागरिक सुरक्षा स्वयंसेवक सहित आपदा प्रबंधन स्वयंसेवक हैं।

Month:

ओडिशा ने लांच किया मास्क अभियान (Mask Abhiyan)

ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने हाल ही में COVID-19 के प्रसार को रोकने के लिए 14 दिनों का “मास्क अभियान” लांच किया है।

मास्क अभियान

इस पहल का मुख्य उद्देश्य मास्क के उपयोग को एक आदत में बदलना है। यह COVID-19 की वर्तमान वृद्धि को नियंत्रित करने में बहुत बड़ी भूमिका निभाएगा। साथ ही, ओडिशा राज्य सरकार ने उल्लंघनकर्ताओं के लिए जुर्माना 1000 रुपये से बढ़ाकर 2000 रुपये कर दिया है।

ओडिशा सरकार ने महामारी रोग अधिनियम, 1897 के तहत COVID -19 नियमों में संशोधन भी किया था। तदनुसार, सार्वजनिक स्थानों पर मास्क नहीं पहनने वाले लोगों पर पहली बार उल्लंघन के लिए 2,000 रुपये तक का जुर्माना लगाया जाएगा। जब दूसरी बार उल्लंघन किया जाता है, तो लोगों पर 5,000 रुपये का जुर्माना लगाया जाएगा।

ओडिशा सरकार ने किन कानूनी आधारों पर जुर्माना लगाया है?

मई 2020 में, केंद्र सरकार ने राज्यों को महामारी रोग अधिनियम लागू करने का निर्देश दिया। यह अधिनियम राज्य सरकारों को एक महामारी के दौरान विशेष उपाय करने का अधिकार देता है। इन प्रावधानों के तहत, ओडिशा सरकार ने जुर्माना पेश किया है।

महामारी अधिनियम, 1897 के प्रावधान

  • स्वास्थ्य एक राज्य का विषय है।हालाँकि, महामारी अधिनियम की धारा 2A केंद्र सरकार को महामारी के प्रसार को रोकने के लिए कदम उठाने का अधिकार देती है।
  • अधिनियम की धारा 3 अवज्ञा के लिए दंड का प्रावधान करती है।
  • अधिनियम की धारा 4 अधिनियम के तहत कार्रवाई करने वाले अधिकारियों को कानूनी सुरक्षा प्रदान करती है।

हाल ही में महामारी अधिनियम, 1897 में संशोधन

केंद्र सरकार ने हाल ही में इस अधिनियम में संशोधन करते हुए कहा कि स्वास्थ्य सेवा कर्मियों के खिलाफ हिंसा के कार्यों को दंडित किया जाएगा। आरोपी को तीन महीने से पांच साल तक की कैद होगी और 2 लाख रुपये तक जुर्माना लगेगा।

Month:

ओडिशा ने एकीकृत आपातकालीन हेल्पलाइन नंबर 112 को मंजूरी दी

हाल ही में ओडिशा सरकार ने संकटग्रस्त लोगों को आपातकालीन सहायता प्रदान करने के लिए एकीकृत आपातकालीन हेल्पलाइन नंबर 112 को मंजूरी दी। ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने इस सेवा को लांच किया। इस हेल्पलाइन नंबर से पुलिस लोगों को कुशल तरीके से सेवाएं मुहैया करा सकेगी।

112

28 नवम्बर, 2018 को हिमाचल प्रदेश के मंडी नगर में 112 एकल आपातकालीन नंबर लांच किया गया था। बाद में इसे अन्य राज्यों में भी लांच किया गया। इस फ़ोन नंबर को आपातकालीन प्रतिक्रिया समर्थन प्रणाली (ERSS) के तहत लांच किया गया था। अब इस नंबर को आंध्र प्रदेश, उत्तराखंड, पंजाब, केरल, मध्य प्रदेश, राजस्थान, उत्तर प्रदेश, तेलंगाना, तमिलनाडु, गुजरात, पुदुचेरी, लक्षद्वीप, अंदमान, दादर व नगर हवेली, दमन व दिउ तथा जम्मू-कश्मीर में लांच किया जा चुका है।

आपातकालीन प्रतिक्रिया समर्थन प्रणाली (ERSS)

इस फ़ोन नंबर पर किसी भी आपात स्थिति से निपटने के लिए सहायता प्राप्त की जा सकती है। 112 नंबर में पुलिस (100), आगजनी (101), स्वास्थ्य (108) तथा महिला सुरक्षा (1090) इत्यादि आपातकालीन सेवाओं को एकीकृत किया है। 112 आपातकालीन फ़ोन नंबर अमेरिका के आपातकालीन नंबर 911 की तर्ज़ पर शुरू किया गया है।

आपातकालीन प्रतिक्रिया समर्थन प्रणाली (ERSS) का उपयोग कैसे करें?

आपातकालीन प्रतिक्रिया समर्थन प्रणाली (ERSS) का उपयोग कई प्रकार से किया जा सकता है।

  • उपभोक्ता 112 नंबर को फ़ोन से डायल करके ERSS से सहायता प्राप्त कर सकता है।
  • स्मार्टफ़ोन के पॉवर बटन को लगातार तीन बार दबाने से ERSS को पैनिक कॉल चली जायेगी।

Month:

Advertisement