RBI

1 अप्रैल: भारतीय रिज़र्व बैंक का स्थापना दिवस

1 अप्रैल को भारतीय रिज़र्व बैंक का स्थापना दिवस मनाया जाता है, इसकी स्थापना 1 अप्रैल, 1935 को की गयी थी। पृष्ठभूमि RBI से पहले, केंद्रीय बैंक के सभी कार्य इंपीरियल बैंक ऑफ इंडिया (Imperial Bank of India) द्वारा किए जा रहे थे। इंपीरियल बैंक ऑफ इंडिया अधिनियम, 1920 के माध्यम से इंपीरियल बैंक ऑफ इंडिया

Month:

पेमेंट सिस्टम टच पॉइंट्स की जियो-टैगिंग के लिए फ्रेमवर्क जारी किया गया

भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) द्वारा पेमेंट सिस्टम टच पॉइंट्स की जियो-टैगिंग से संबंधित फ्रेमवर्क जारी किया गया है। मुख्य बिंदु  यह फ्रेमवर्क भारत के सभी नागरिकों को ऐसी सेवाओं तक पहुंच प्रदान करने के साथ-साथ डिजिटल भुगतान को गहरा करने के RBI के उद्देश्य के एक हिस्से के रूप में बनाया गया है। इस प्रणाली

Month:

रिजर्व बैंक इनोवेशन हब (Reserve Bank Innovation Hub – RBIH) का उद्घाटन किया गया

रिजर्व बैंक इनोवेशन हब (RBIH) का उद्घाटन बेंगलुरु में भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) के गवर्नर शक्तिकांत दास ने किया। मुख्य बिंदु  RBIH को प्रारंभिक पूंजी योगदान के रूप में 100 करोड़ रुपये के साथ RBI की पूर्ण स्वामित्व वाली सहायक कंपनी के रूप में स्थापित किया गया है। इस हब के लिए एक स्वतंत्र बोर्ड

Month:

अमेरिकी फेडरल रिजर्व ने ब्याज दरों में बढ़ोत्तरी की, भारत पर इसका क्या प्रभाव पड़ेगा?

2018 के बाद पहली बढ़ोतरी में अमेरिकी फेडरल रिजर्व (US Federal Reserve) ने ब्याज दरों में 25 आधार अंकों की वृद्धि की। वृद्धि के कारण फरवरी में, अमेरिका में मुद्रास्फीति 7.9% तक पहुंच गई, जो 40 वर्षों में सबसे अधिक है। रूस-यूक्रेन युद्ध के कारण वैश्विक वस्तुओं की कीमतों में भी वृद्धि हुई है। इस प्रकार,

Month:

RBI ने सूक्ष्म वित्त ऋणदाताओं (Micro-finance Lenders) के लिए फ्रेमवर्क की घोषणा की

14 मार्च को भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) ने माइक्रोफाइनेंस ऋणदाताओं (Micro-finance Lenders) पर नियामक ढांचे की घोषणा की। मार्जिन कैप को हटाया गया भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) ने गैर-बैंकिंग वित्तीय कंपनी-माइक्रोफाइनेंस संस्थानों (NBFC-MFI) द्वारा दिए गए छोटे ऋणों के मूल्य निर्धारण पर मार्जिन कैप को हटा दिया है। इससे पहले, माइक्रोफाइनेंस ऋणदाताओं द्वारा वसूले जाने वाले

Month:

RBI की मौद्रिक नीति समिति ने प्रमुख ब्याज दरों में कोई बदलाव नहीं किया

10 फरवरी, 2022 को RBI की मौद्रिक नीति समिति (Monetary Policy Committee – MPC) ने प्रमुख ब्याज दरों को अपरिवर्तित रखा। इसने केंद्रीय बजट 2022 के बाद अपनी पहली नीति में समायोजन का रुख बरकरार रखा। मुख्य बिंदु  यह लगातार दसवीं बार है जब MPC ने यथास्थिति बनाए रखी है। तीन दिवसीय MPC बैठक 8

Month:

Advertisement